२०२४-०६-१६

गीतानुवाद-२९०: ये है रेशमी जुल्फों का

मूळ हिंदी गीतः मजरूह सुलतानपुरी, संगीतः ओ.पी.नय्यर, गायकः आशा भोसले
चित्रपटः मेरे सनम, सालः १९६५, भूमिकाः विश्वजीत, आशा पारेख, मुमताज 

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २०२४०६१६

 

धृ

ये है रेशमी
जुल्फों का अँधेरा
न घबराईये
जहाँतक महक है
मेरे गेसुओं की
चले आईये

हा आहे रेशमी
केसांचा अंधेर
तू नको घाबरू
जात जिथवर सुगंध
माझ्या केसांचा रे
ये तिथवरती तू

सुनिये तो जरा
जो हकिकत है
कहते है हम
खुलते रुकते
इन रंगीं
लबों की कसम
जल उठेंगे दिये
जुगनुओं की तरह
तबस्सुम तो
फरमाईये

ऐक तर, हे जरा
जे खरे तेच
मी सांगते
बोलत्या थांबत्या
या रंगीत
ओठांची शपथ
पेटतील हे दिवे
काजव्यांसारखे
स्मित थोडे तरी
झळकू दे

प्यासी है नजर
ये भी कहने की
है बात क्या
तुम हो मेहमां
तो न ठहरेगी
ये रात क्या
रात जाये रहे
आप दिल में मेरे
अरमां बन के
रह जाईये

तहानली आहे नजर
हे सांगायलाच
हवे आहे का?
पाहुणा तू आहेस
तर थांबेल न
ही रात का?
रात राहो सरो
तू ये हृदयी माझ्या
ईप्सित होऊन
रहा इथे

२०२४-०५-०१

गीतानुवाद-२८९: पंछी बनू उडती फिरू

मूळ हिंदी गीतः हसरत जयपुरी, संगीतः शंकर जयकिसन, गायकः लता
चित्रपटः चोरीचोरी, सालः १९५६, भूमिकाः नर्गिस, राज कपूर

 

धृ

पंछी बनूँ उड़ती फिरूँ मस्त गगन में
आज मैं आज़ाद हूँ दुनिया के चमन में
हिल्लोरी.. हिल्लोरी, हिलो हिलो हिलो री

पक्षी बनू उडत फिरू मस्त गगनि मी
आज मी स्वतंत्र आहे संसार उपवनी
हिल्लोरी.. हिल्लोरी, हिलो हिलो हिलो री

ओ मेरे जीवन मे चमका सवेरा
ओ मिटा दिल से वो गम का अंधेरा
ओ हरे खेतों में गाए कोई लहरा
ओ यहाँ दिल पर किसी का न पहरा
रंग बहारों, ने भरा, मेरे जीवन में

ओ माझ्या आयुष्यात झाली पहाट
ओ मिटले दुःख, गेली अंधारी वाट
ओ हिरव्या शेतात गातो कुणी वारा
ओ मनावर नाही कुणाचाच पाहरा
रंग बहारींनी, दिला, माझ्या जीवनी

ओ दिल ये चाहे बहारों से खेलूँ
ओ गोरी नदिया की धारों से खेलूँ
ओ चाँद सूरज सितारों से खेलूँ
ओ अपनी बाहों में आकाश ले लूँ
बढ़ती चलूँ, गाती चलूँ, अपनी लगन में

ओ मला वाटे बहारींशी खेळू
ओ शुभ्र नदीच्याही धारेशी खेळू
ओ चंद्र सूर्य आणि तार्‍यांशी खेळू
ओ सारे आकाशच बाहूंत घेऊ
पुढती चलू, गात फिरू, अंतःस्फूर्तीनी

ओ मैं तो ओढूँगी बादल का आँचल
ओ मैं तो पहनूँगी बिजली की पायल
ओ छीन लूँगी घटाओं से काजल
ओ मेरा जीवन है नदिया की हलचल
दिल से मेरे, लहरें उठे, ठंडी पवन में

ओ पदर मेघाचा का मी न ओढू
ओ पायी पैंजण का बिजलीचे घालू
ओ निशेचे हिसकीन काळे मी काजळ
ओ माझे जीवन ही सरितेची सळसळ
उसळवती, मनी लहरी, गार झुळुकी

२०२४-०१-०७

गीतानुवाद-२८८: तुझे क्या सुनाऊँ मैं दिलरुबा

मूळ हिंदी गीतः मजरूह सुलतानपुरी, संगीतः मदन मोहन, गायकः मोहम्मद रफ़ी
चित्रपटः आंखरी दांव, सालः १९५८, भूमिकाः नूतन, शेखर 

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २०२४०१०७

 

धृ

तुझे क्या सुनाऊँ मैं दिलरुबा
तेरे सामने मेरा हाल है
तेरी इक निगाह की बात है
मेरी ज़िंदगी का सवाल है

तुज काय सांगू मी प्रियतमे
तू अवस्था माझी तर पाहशी
तव दृष्टित येवो मी एकदा
मग जगण्यात अर्थ उरेल ग

मेरी हर ख़ुशी तेरे दम से है
मेरी ज़िंदगी तेरे ग़म से है
तेरे दर्द से रहे बेख़बर
मेरे दिल की कब ये मज़ाल है

तुझा श्वास माझी खुशी असे
तव दुःख जणु मी जगत बसे
तुझे दुःख मुळी नच जाणता
मी जगू शकेन अशक्य हे

तेरे हुस्न पर है मेरी नज़र
मुझे सुबह शाम की क्या ख़बर
मेरी शाम है तेरी जुस्तजू
मेरी सुबह तेरा ख़याल है

तुझ्या रूपावरती माझी नजर
ही सकाळ रात न मज खबर
संध्येस शोधत मी तुला
पहाटे विचार तुझाच ग

मेरे दिल जिगर में समा भी जा
रहे क्यों नज़र का भी फ़ासला
के तेरे बग़ैर ओ जान-ए-जां
मुझे ज़िंदगी भी मुहाल है

तनामनात तू राह ना
नजरेचे अंतरही का उरो
तुजवाचुनी हे प्रियतमे
जगणे माझे अशक्य हे