२०२२-०७-१६

गीतानुवाद-२४९: बेख़ुदी में सनम उठ गए जो क़दम

मूळ हिंदी गीतः अख्तर रोमनी, संगीतः कल्याणजी आनंदजी, गायक: लता, रफी
चित्रपटः हसीना मान जायेगी, सालः १९६८, भूमिकाः शशी कपूर, बबिता, अमित, जॉनी वॉकर

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २००८०५१० 

धृ

बेख़ुदी में सनम उठ गए जो क़दम
आ गए आ गए आ गए पास हम
आ गए पास हम
बेख़ुदी में सनम उठ गए जो क़दम
आ गए आ गए आ गए आ गए पास हम

लः


रः

भान नव्हते तरी, उचलली पावले
हरखलो, हरखलो, जवळ आलो असे
जवळ आलो असे
भान नव्हते तरी, उचलली पावले
हरखलो, हरखलो, जवळ आलो असे

आग ये कैसी मन में लगी है
मन से बढी तो तन में लगी है
आग नहीं ये दिल की लगी है
जितनी बुझाई उतनी जली है
दिल की लगी ना हो तो क्या ज़िन्दगी है
साथ हम जो चले मिट गए फ़ासले
आ गए आ गए आ गए पास हम
बेख़ुदी में सनम

लः

रः

लः


दो
:

आग कशी ही मनी लागली आहे
मनी वाढली तर तनी लागली आहे
आग नाहीच ही ध्यास मनीचा
शांतवा जेवढा, वाढतो तेवढा
ध्यास मुळीही नसता, काय आयुष्य ते
साथ जे चाललो, दूरता संपली      
हरखलो, हरखलो, जवळ आलो असे
भान नव्हते तरी

खोई नज़र थी सोए नज़ारे
देखा तुम्हें तो जागे ये सारे
दिल ने किए जो दिल को इशारे
मिल के चले हम साथ तुम्हारे
आज ख़ुशी से मेरा दिल ये पुकारे
तेरा दामन मिला प्यार मेरा खिला
आ गए आ गए आ गए पास हम
बेख़ुदी में सनम

रः


लः



दो
:

हरपलेली नजर, देखावे सुप्त ते
पाहिले तुला अन्, सारे जग जागले
हृदयाने केले जे हृदया इशारे
मिळून चालू दोघे चलू सोबतीने
आज खुशीने माझे हृदय हे पुकारे
आधाराने तुझ्या प्रेम हे बघ फुले
हरखलो, हरखलो, जवळ आलो असे
भान नव्हते तरी

दिल की कहानी पहुँची ज़ुबाँ तक
किसको ख़बर अब पहुँचे कहाँ तक
प्यार के राही आए यहाँ तक
जाएँगे दिल की हद है जहाँ तक
तुम साथ दो तो चलें हम आसमाँ तक
दिल में अरमाँ लिए लाखों तूफ़ाँ लिए
आ गए आ गए आ गए पास हम
बेख़ुदी में सनम

लः


रः


लः
दो:

गोष्ट हृदयातली, ओठांवरती आली
कुणा ठाऊकी कुठवर पोहोचेलही ती
प्रीतपांथस्थ हे पावले इथवरी
जाऊ तिथवर जिथे हद्द हृदयाची हो
साथ तू देशी तर येईन आकाशीही मी
अंतराशा घेऊन वादळे साठवून
हरखलो, हरखलो, जवळ आलो असे
भान नव्हते तरी


गीतानुवाद-२४८: हर तरह के जज़्बात का ऐलान हैं आँखें

मूळ हिंदी गीतकारः साहीर, संगीतकारः रवी, गायीकाः लता, मुकेश
चित्रपटः आँखे, सालः १९६८, भूमिकाः माला सिन्हा, धर्मेंद्र 

नरेंद्र गोळे २०१२०४२१

धृ

हर तरह के जज़्बात का ऐलान हैं आँखें
शबनम कभी शोला कभी तूफ़ान हैं आँखें

हर भावनेचा, भावाचा, उच्चार हे डोळे
पुष्पे, कधी अंगार, झंझावात, हे डोळे

आँखों से बड़ी कोई तराज़ू नहीं होती
तुलता है बशर जिसमें वो मीजान हैं आँखें

डोळ्यांहून उजवा नसे तराजूही कुठला
तुळे ज्यात मनुष्य, तुळा तीच हे डोळे

आँखें ही मिलाती हैं ज़माने में दिलों को
अनजान हैं हम-तुम अगर अनजान हैं आँखें

डोळेच गाठ घालती, मनांची संसारी या
अनोळखी सारे, जर अनभिज्ञ हे डोळे

लब कुछ भी कहें उससे हक़ीक़त नहीं खुलती
इनसान के सच-झूठ की पहचान हैं आँखें

ओठ बोलले, तरी सत्य उमगत नाही
मनुष्याच्या सत्याची प्रचितीच हे डोळे

आँखें न झुकें तेरी किसी ग़ैर के आगे
दुनिया में बड़ी चीज़ मेरी जान हैं आँखें

परक्यापुढे अवनत न होवो तुझे डोळे
संसारात थोरच समज, असती हे डोळे

उस मुल्क़ की सरहद को कोई छू नहीं सकता
जिस मुल्क़ की सरहद की निगेहबान हैं आँखें

त्या देशाच्या हद्दीस कुणी स्पर्शू शके ना
ज्या देशाच्या सीमेचे सावध पुरे डोळे

२०२२-०६-०७

गीतानुवाद-२४७: पूछो ना कैसे

मूळ हिंदी गीतकार: शैलेंद्र, संगीत: सचिनदेव बर्मन, गायक: मन्ना डे
चित्रपटः मेरी सूरत तेरी आँखे, साल: १९६३, भूमिका: अशोककुमार, आशा पारेख, प्रदीपकुमार 

मराठी अनुवाद: नरेंद्र गोळे २००७०२०४

धृ

पूछो ना कैसे मैने रैन बिताई
इक पल जैसे, इक युग बीता
युग बीते मोहे नींद ना आयी
पूछो ना कैसे मैने रैन बिताई

पूसू नका कशी रात गुजरली
एक क्षण जैसे एक युग गेले
युगं गेली तरी नीज न आली
पूसू नका कशी रात गुजरली

उत जले दीपक, इत मन मेरा
फिर भी ना जाये मेरे घर का अंधेरा
तड़पत तरसत उमर गंवायी
पूछो ना कैसे मैने रैन बिताई

तिथे जळे दिवा, इथं मन माझे
तिमिर सोडं ना तरी घर माझे
अस्वस्थ अतृप्त जीवन सरले
पूसू नका कशी रात गुजरली

ना कहीं चँदा, ना कहीं तारे
ज्योत के प्यासे मेरे, नैन बिचारे
भोर भी आस की किरन ना लायी
पूछो ना कैसे मैने रैन बिताई

चंद्र कुठेही न, न कुठेही तारे
किरण शोधती नयन बिचारे
पहाटही घेऊन आस न आली
पूसू नका कशी रात गुजरली

२०२२-०६-०५

गीतानुवाद-२४६: कौन आया की

मूळ हिंदी गीतकार: साहिर, संगीत: रवी, गायक: आशा भोसले
चित्रपट: वक्त, साल: १९६५, भूमिका: राजकुमार, साधना 

मराठी अनुवाद:  नरेंद्र गोळे २०१३०७०५


धृ

कौन आया की निगाहों में चमक जाग उठी
दिले के सोये हुए तारों मे खनक जाग उठी

कोण आले नी नयनांत चमक जागली
सूप्त तारांत मनाच्याही खनक जागली

किस के आने की खबर लेकर हवाएँ आयी
जिस्म से फूल चटकने की सदाएँ आयी
रूह खिलने लगी, सासों में महक जाग उठी
दिले के सोये हुए तारों मे खनक जाग उठी

बातमी येण्याची कोणाच्या हवेवर आली
तनूवर फूल फिरवल्याची चाहूल आली
चित्त हरखले, श्वासांत आला सुगंधही
सूप्त तारांत मनाच्याही खनक जागली

किस ने ये देख के मेरे तरफ बाहे खोली
शौख जज्बात ने सीने में निगाहे खोली
होठ तपने लगे, जुल्फों मे लचक जाग उठी
दिले के सोये हुए तारों मे खनक जाग उठी

कुणी पाहून हे मजपाशी याचना केली
तीव्र आवेगांनी हृदयात दृष्टी जागवली
ओठ उष्णावले, केसांत लहर धावली
सूप्त तारांत मनाच्याही खनक जागली

किस के हाथों ने मेरे हाथों से कुछ मांगा है
किस के ख्वाबों ने मेरी रातों से कुछ मांगा है
साज बजने लगे, आँचल में धुनक जाग उठी
दिले के सोये हुए तारों मे खनक जाग उठी

कुणाच्या हातांनी मजकडून याचले काही
कुणाच्या स्वप्नांनी रातीस याचले काही
वाद्ये नादावली, पदरात गुंज गाजली
सूप्त तारांत मनाच्याही खनक जागली

२०२२-०६-०१

गीतानुवाद-२४५: ऐवें दुनिया देवे दुहाई

मूळ पंजाबी गीतकार: प्रेम धवन, संगीत: सलील चौधरी, गायक: रफी, बलबीर
चित्रपट: जागते रहो, साल: १९५६, भूमिका: राज कपूर, नर्गीस, प्रदीपकुमार, मोतीलाल 

मराठी अनुवाद: नरेंद्र गोळे २००७०१११

धृ

ऐवें दुनिया देवे दुहाई झूठा पांवदी शोर
अपने दिल ते पूछ के देखो
कौन नहीं है चोर
ते कि मैं झूठ बोलया? कोई ना!
ते कि मैं कुफ़र तोलिया? कोई ना!
ते कि मैं ज़हर घोलिया?
कोई ना! भई कोई ना!! भई कोई ना!!!

अशी सदिच्छा करते दुनिया खोटा पावे जोर
मनास आपल्या पुसून ठेवा
कोण नसतो चोर
काय मी खोटे बोलतो? मुळी ना!
काय मी निंदा करतो? मुळी ना!
काय मी विष घोळतो?
मुळी ना! जी मुळी ना!! जी मुळी ना!!!

हक़ दूजे दा मार-मार के बणदे लोग अमीर
मैं ऐनूं कहेंदा चोरी दुनिया कहंदी तक़दीर
ते कि मैं झूठ बोलया? कोई ना!
ते कि मैं कुफ़र तोलिया? कोई ना!
ते कि मैं ज़हर घोलिया?
कोई ना! भई कोई ना!! भई कोई ना!!
ओ हट के! प्राजी बच के!!

एक-दुसर्‍याला मार-मारुनी, बनती लोक अमीर
आहे मी ही चोरी म्हणतो, दुनिया म्हणत नशीब
काय मी खोटे बोलतो? मुळी ना!
काय मी निंदा करतो? मुळी ना!
काय मी विष घोळतो?
मुळी ना! जी मुळी ना!! जी मुळी ना!!!
हो जरा दूर व्हा! दाजीबा सांभाळा!!

वेखे पंडित ज्ञानी ध्यानी दया-धर्म दे बन्दे
राम नाम जपदे खान्दे गौशाला दे चन्दे
ते कि मैं झूठ बोलया कोई ना
ते कि मैं कुफ़र तोलिया कोई ना
ते कि मैं ज़हर घोलिया
कोई ना भई कोई ना भई कोई ना

पंडित ज्ञानी ध्यानी पाहिले, दयाधर्मपथदूत
रामनाम जपताती, चरती गोशाळा संचित
काय मी खोटे बोलतो? मुळी ना!
काय मी निंदा करतो? मुळी ना!
काय मी विष घोळतो?
मुळी ना! जी मुळी ना!! जी मुळी ना!!!

सच्चे फाँसी चढ़दे वेखे झूठा मौज उड़ाए
लोकी कैहंदे रब दी माया
मैं कहंदा अन्याय

ते कि मैं झूठ बोलया? कोई ना!
ते कि मैं कुफ़र तोलिया? कोई ना!
ते कि मैं ज़हर घोलिया?
कोई ना! भई कोई ना!! भई कोई ना!!!

सच्चे फाशी चढता दिसले, खोटा करतो चैन
लोक म्हणती ही ईश्वरी लीला
मी म्हणतो अन्याय
काय मी खोटे बोलतो? मुळी ना!
काय मी निंदा करतो? मुळी ना!
काय मी विष घोळतो?
मुळी ना! जी मुळी ना!! जी मुळी ना!!!

२०२२-०५-३१

गीतानुवाद-२४४: मचलती आरज़ू खड़ी बाँहें पसारे

मूळ हिंदी गीतः शैलेंद्र, संगीतः सलील चौधरी, गायकः लता
चित्रपटः उसने कहा था, सालः १९६०, भूमिकाः नंदा, सुनील दत्त

 

धृ

मचलती आरज़ू खड़ी बाँहें पसारे
ओ मेरे साजना रे, धड़कता दिल पुकारे
आ आ आ जा

उसळती कामना, उभी पसरून बाहू
रे माझ्या साजणा रे, स्पंदते हृदय बोले
ये ना राजसा

मेरा आँचल पकड़के कह रहा है मेरा दिल
ज़माने की निगाहों से
यहाँ छुप-छुप के मिल
यहीं तन्हाई में दिल की कली जाएगी खिल

पदर माझाच उचलून, बोलते हृदय माझे
जगापासून लपुनी,
येऊन भेट येथे
, ये
इथे एकांती येऊन कळी मनाची उमले रे

मिलन के मदभरे चंचल ख़यालों में मगन
मैं यूँ तकती हूँ तेरी राह, ओ मेरे सजन
बहारों के लिए हो मुंतज़िर जैसे चमन

भेटीच्या मत्त विचारांत होते मी तल्लीन
अशी पाहत असे, माझ्या सख्या, तव वाट रे
जसे ते फूल होई, अधीर बहार येण्यासाठी