२०२१-०५-०४

गीतानुवाद-१९०: हम जब सिमट के

मूळ हिंदी गीतकार: साहिर, संगीत: रवी, गायक: आशा भोसले, महेंद्र कपूर
चित्रपट: वक्त, साल: १९६५, भूमिका: सुनील दत्त, साधना 

मराठी अनुवाद:  नरेंद्र गोळे २०१३०७०५

धृ

हम जब सिमट के आप की बाहों में आ गये
लाखो हसिन ख्वाब निगाहों में आ गये

जेव्हा मिठीत मी तुझ्या, सजणा विसावले
लाखो सुरेख स्वप्नसर नयनांत दाटले

खुशबू चमन को छोड के सासों में घुल गयी
लहरा के अपने आप जवाँ जुल्फ खुल गयी
हम अपने दिसपसंद पनाहों में आ गये

फुलास सोडून गंध हे, श्वासांत मिसळले
लहरून केस हे युवा, आपोआप विखुरले
मीही खुलून आवडीच्या मस्तीत प्रकटले

कह दी है दिल की बात नजरों के सामने
इकरार कर लिया है, बहारों के सामने
दोनो जहाँ आज गवाहों में आ गये

डोळ्यांसमोर बोलले आहे मी मनाचे गूज
होकार मी दिला आहे, साक्षी बहर करून
होऊन दोन्हीही जगे साक्ष, धन्य जाहले

मस्ती भरी घटाओं की परछाईयों तले
हाथों मे हाथ थाम के जब साथ हम चले
शाखाओं से फूल टूट के राहों में आ गये

मस्तीने मत्त मेघांच्या सावली तळी
हातात हात घेऊनी आम्ही संगतीने चाललो
फांदिची सुटून फुले मार्ग खूप शोभले   


https://www.youtube.com/watch?v=G-VYzHdZMyY

https://www.youtube.com/watch?v=G-VYzHdZMyY

२०२१-०५-०३

गीतानुवाद-१८९: ये जिन्दगी उसी की है

मूळ हिंदी गीतः राजिंदर कृष्ण, संगीतः सी. रामचंद्र, गायिकाः लता मंगेशकर
चित्रपटः अनारकली, सालः १९५३, भूमिकाः प्रदीप कुमार, बीना रॉय, कुलदीप कौर, नूरजहाँन 

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २०२०११२६

धृ

ये ज़िन्दगी उसी की है
जो किसी का हो गया
प्यार ही में खो गया

हे जीवन त्याचेच आहे
जो कुणाचा जाहला
प्रेमामध्ये गुंतला

ये बहार, ये समा
कह रहा है प्यार कर
किसी की आरज़ू में अपने
दिल को बेक़रार कर
ज़िन्दगी है बेवफ़ा
लूट प्यार का मज़ा

ही बहार, हा ऋतू
सांगतो की प्रेम कर
कुणाच्या आवडीत आपला
जीव तू अस्वस्थ कर
जीवन एकनिष्ठ ना
लूट प्रीतीची मजा

धड़क रहा है दिल तो क्या
दिल की धड़कनें ना गिन
फिर कहाँ ये फ़ुर्सतें
फिर कहाँ ये रात-दिन
आ रही है ये सदा
मस्तियों में झूम जा

स्पंदते हृदय तर काय
स्पंदने त्याची न गण
पुढे न संधी सापडे
पुढे कुठे हे रात-दिन
ऐकू ये संदेश हा
धुंदीमधेच नाच जा

जो दिल यहाँ न मिल सके
मिलेंगे उस जहान में
खिलेंगे हसरतों के फूल
जा के आसमान में
ये ज़िन्दगी चली गई
जो प्यार में तो क्या हुआ

जी मने इथे न भेटली
भेटू तिथे जगात त्या
इच्छांची उमलतील फुले
जाऊनी आकाशात त्या
प्रेमात हे आयुष्य जरी
संपले तर मोठं काय

सुनाएगी ये दास्तां
शमा मेरे मज़ार की
फ़िज़ा में भी खिली रही
ये कली अनार की
इसे मज़ार मत कहो
ये महल है प्यार का

ऐकवेल ही कथा
ज्योत मम चिर्‍यातली
बहारीतही उमललेलीच
असे डाळिंबी ही कळी
थडगे ह्यास म्हणू नका
महाल हा मम प्रीतीचा

ऐ ज़िंदगी की शाम आ
तुझे गले लगाऊं मैं
तुझी में डूब जाऊं मैं
जहां को भूल जाऊं मैं
बस इक नज़र
मेरे सनम अल्विदा
अल्विदा

हे सांजे आयुष्याचे ये
गळ्यास तुज मी लावते
तुझ्यात विरून जात मी
जगास विसरू पाहते
फक्त एक कटाक्ष
साजणा तुज रामराम
रामराम

 

https://www.youtube.com/watch?v=K5r0ZMvbSag

२०२१-०३-३१

गीतानुवाद-१८८: आँसू भरी हैं ये जीवन की राहे

मूळ हिंदी गीतः हसरत जयपुरी, संगीतः दत्ता राम, गायकः मुकेश
चित्रपटः परवरीश, सालः १९५८, भूमिकाः राज कपूर, माला सिन्हा 

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २०२००९१६

धृ

आँसू भरी हैं ये जीवन की राहें
कोई उनसे कह दे हमें भूल जाएं

अश्रूपुरे आहेत हे पथ जीवनाचे
सांगा कुणी तिज, ’विसर तू मला गे’

वादे भुला दें क़सम तोड़ दें वो
हालत पे अपनी हमें छोड़ दें वो
ऐसे जहाँ से क्यूँ हम दिल लगाएं
कोई उनसे कह दे हमें भूल जाएं

विसरो ती वचने, शपथ मोडू दे ती
मला माझ्या हालावरच सोडू दे ती
अशा या जगावर मी का लुब्ध व्हावे
सांगा कुणी तिज, ’विसर तू मला गे’

बरबादियों की अजब दास्ताँ हूँ
शबनम भी रोए मैं वो पासबाँ हूँ
उन्हें घर मुबारक हमें अपनी आँहें
कोई उनसे कह दे हमें भूल जाएं

हरत्या विनाशाची चित्तरकथा मी
संगतीत रडकुंडी ये फूल, तो मी
तिला लाभू दे घर, निश्वास मज हे
सांगा कुणी तिज, ’विसर तू मला गे’

 

 

 

https://www.youtube.com/watch?v=9UE-LcQ5NNg

२०२१-०३-२९

गीतानुवाद-१८७: जाओ रे, जोगी तुम जाओ रे

मूळ गीतकार: शैलेंद्र, संगीत: शंकर-जयकिसन, गायक: लता
चित्रपट: आम्रपाली, साल: १९६६, भूमिका: सुनील दत्त, वैजयंतीमाला, प्रेमनाथ

मराठी अनुवाद: नरेंद्र गोळे २००७०२०३

धृ

जाओ रे, जोगी तुम जाओ रे
ये है प्रेमियों की नगरी
यहाँ प्रेम ही है पूजा

जा रे जा योग्या तू निघून जा
ही आहे प्रेमिकांची नगरी
इथे प्रेम हीच पूजा

प्रेम की पीड़ा सच्चा सुख है
प्रेम बिना ये जीवन दुख है

प्रेमाची पीड़ा सच्चे सुख रे
प्रेमाविना हे जीवन दु:ख रे

जीवन से कैसा छुटकारा
है नदिया के साथ किनारा

जीवनातूनी कशी सुटका रे
रे नदीसोबत दोन्ही किनारे

ज्ञान कि तो है सीमा ज्ञानी
गागर में सागर का पानी

ज्ञान्या असे ज्ञानाला सीमा
घागरीत जणू जलधीजला त्या


https://www.youtube.com/watch?v=EEosE9SN96w

२०२१-०३-२५

गीतानुवाद-१८६: ऐ हुस्न ज़रा जाग

मूळ हिंदी गीतः शकील, संगीतः नौशाद, गायकः रफ़ी
चित्रपटः मेरे महबूब, सालः १९६३, भूमिकाः राजेंद्रकुमार, साधना 

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २००८०७०६

 

धृ

ऐ हुस्न ज़रा जाग तुझे इश्क जगाये
बदले मेरी तकदीर जो तू होश में आये

हे रूपवती तू जाग तुला प्रीत पुकारे
बदलेल माझे दैव जर तू जागशी सखये

ये प्यार के नगमे ये मुहब्बत के तराने
तुझको बड़े अरमान से लाया हूँ सुनाने
उम्मीद मेरे दिल की कहीं टूट न जाये

प्रेमाच्या ह्या कविता आणि ही प्रीतीची गीते
अपेक्षेने तुला ऐकवायला आणले सये हे
आशा न मनाची माझ्या होवो निराश गे

साज़--दिले खामोश में एक सोज जगा दे
तू भी मेरी आवाज़ में आवाज़ मिला दे
आया हूँ तेरे दर पे बड़ी आस लगाये

संगीतात सूप्त, हृदयीच्या जागव तू शोकगीत
आवाजामधे माझ्या तुझा स्वर मिसळ प्रिये
खूप आस घेऊनी मी तुझ्या द्वारी आलो आहे

ऐ शम्मा तू आजा ज़रा चिलमनसे निकलके
हसरत है कि रह जाऊं तेरी आग में जलके
परवाना वो क्या तुझपे जो मिटकर ना दिखाए

हे ज्योती तू आवरणाच्या बाहेर निघून ये
इच्छा तुझ्या धगीत भस्म होण्याची आहे प्रिये
समर्पित न होऊन दाखवे पतंगच न तो म्हणवे


https://www.youtube.com/watch?v=9rXZ_IWILxs

२०२१-०३-२४

गीतानुवाद-१८५: लाखो है निगाह में

मूळ हिंदी गीतः मजरूह, संगीतः ओ. पी. नय्यर, गायकः महंमद रफी
चित्रपट: फिर वहीं दिल लाया हूँ, सालः १९६३, भूमिकाः जॉय मुखर्जी, आशा पारेख 

मराठी अनुवादः नरेंद्र गोळे २०१७०८१४

धृ

लाखो है निगाह में
जिंदगी की राह में
सनम हसीन जवाँ
होटों में गुलाब हैं
आँखों में शराब हैं
लेकिन वो बात कहाँ

लाखो दिसतात की
जीवनात ह्या पथी
सुहृद सुरेख युवा
ओठांवर गुलाब आहे
धुंद नयनांत आहे
पण कुठे ती मोहक अदा

लट है किसी की जादू का जाल
रंग डाले दिल पे किसी का जमाल
तौबा ये निगाहें, की रोकती हैं राहे
देखो, ले ले के तीर-कमान

बट आहे कुणाच्या जादुचे जाल
रंगवे हृदय, ही कुणाची कमाल
कहर हे डोळे, कसे रोखती, न कळे
पाहा, घेऊन धनुष्य नि बाण

जानु ना दिवाना मैं दिल का
कौन है खयालों की मलिका
भिगी भिगी ऋत की छाओ तले
मान लो कहीं वो आन मिले
कैसे पहेचानू के नाम नहीं जानू
किसे ढुंढे मेरे अरमान

मनोमनी खुळा, मज माहीत ना
कोण असे, स्वप्नीची कलिका
सर्द सर्द ऋतूच्या सावलीत ह्या
समजा ती, येऊन भेटली मला
कसे मी ओळखावे, मला नाव नाही ठावे
कुणा शोधते माझी स्पृहा 

 

कभी कभी वो इक माहजबीं
डोलती हैं दिल के पास कहीं
हैं जो यही बाते
तो होंगी मुलाकाते
कभी यहाँ नहीं तो वहाँ

कधी कधी ती, एक चंद्रमुखी
विहरते माझ्या हृदयाशी
असतील हितगुजे
तर घडतील भेटीही की
कधी इथे किंवा जमेल तिथे


https://www.youtube.com/watch?v=eoiOG0a1jNw